नवीन सूचना वर्तमान भर्ती : वरिष्ठ शोध अधिशासी; कार्य विवरण(PDF); आवेदन की अंतिम तिथि : 20th July 2021
बी आर एल एफ के बारे में
home-page
भारत रूरल लाइवलीहुड्स फाउंडेशन (बीआरएलएफ) की स्थापना भारत सरकार द्वारा एक स्वतंत्र संस्था के रूप में ग्रामीण विकास मंत्रालय के अधीन की गयी थी, जिसका मुख्य उद्देश्य केंद्र व राज्य सरकारों के साथ भागीदारी करते हुए नागरिक सामाजिक संगठनों के प्रयासों को बढ़ाना था। नागरिक सामाजिक संगठनों के साथ साझेदारी में विभिन्न सरकारी योजनाओं और कार्यक्रमों के बेहतर क्रियान्वयन व लोगों तक उनकी पहुँच को सुनिश्चित करने के विचार से 3 सितम्बर 2013 केन्द्रीय मंत्रिमंडल द्वारा भारत रूरल लाइवलीहुड्स फाउंडेशन को स्थापित करने का निर्णय लिया गया। 10 दिसम्बर 2013 को बीआरएलएफ एक स्वतंत्र संस्था के रूप में अस्तित्व में आ गयी व 500 करोड़ रुपए की आरंभिक राशि का दो किश्तों में आवंटन करते हुए इस नव सृजित संस्था की कॉर्पस निधि का निर्माण किया गया।
आगे पढ़े
कोविड 19- राहत कार्य
तत्काल क्रिया की आवश्यकता को समझते हुए, बीआरएलएफ ने, ओड़ीशा, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और पश्चिम बंगाल के दस जिलों के सोलह खण्डों के 8500 परिवारों के लिये राहत के उपायों की अविलंब व्यवस्था की है। इन राहत उपायों में निम्न बातें शामिल हैं – अ) 15-20 दिन चल सके इतने राशन और अन्य जीवनावश्यक वस्तुओं का वितरण, ब) सामूहिक रसोई, कीटनाशक और सेनिटाईझर देकर ग्राम्य स्तर पर स्थापित क्वारन्टाईन केम्पों को समर्थन देना, क) कोविड-19 से बचने के उपायों के प्रति जागरूकता फैलाना । हमारे भागीदार नागरिक सामाजिक संगठन जो इन ग्राम्य इलाकों में पिछले पाँच-दस वर्षों से काम कर रहे हैं और स्थानीय समुदायों को अच्छी तरह से समझते हैं, वे हमारे इस राहत कार्य में हमारी सहायता कर रहे हैं।
कोविड 19- राहत कार्यों के प्रथम चरण की प्रगति रिपोर्टकोविड 19- राहत कार्यों के दूसरे चरण की प्रगति रिपोर्ट
ग्रामीणों को राशन एवं अन्य जरूरी सामान का वितरण
ब्लॉग
केन्द्रित विषय